Kundali Darpan कुण्डली दर्पण (Hindi) by Narayan Dutt Shrimali

(Few pages could be missing in this old edition’s scan)

फल-कथन तथा ग्रहों के आधार को ध्यान में रखकर भविष्य-फल स्पष्ट करना ज्योतिष विग्यान में सम्भवतः सर्वाधिक कठिन कार्य है। कुण्डली में कुल बारह भाव होते हैं। यह बारह भाव जीवन के विशिष्ट पहलुओं को अपने आप में समेटे हुए हैं और इन भावों के अध्ययन से मनुष्य का पूरा जीवन विवेचित किया जा सकता है। प्रत्येक भाव अपने आप में स्वतंत्र होते हुए भी एक दूसरे से पूणर्तः सम्बन्धित है। ज्योतिष विग्यान के सिद्धान्तों के आधार पर इन भावों का फल कथन किस प्रकार किया जाये, यही इस पुस्तक का विषय है।  ‘जन्मकुण्डलीः एक प्रैक्टिकल अधयाय में एक कुण्डली को आधार बनाकर भविष्यफल स्पष्ट करने की विधि समझाई गई है। इन दोनों अध्यायों के जुड़ जाने से पुस्तक की उपयोगिता बहुत अधिक बढ़ गयी है। – डॉ॰ नारायणदत्त श्रीमाली

Price INR 85

How to Order and Get the eBook

Mahadev Pathak ‘s Dashaphala Darpan दशाफल दर्पण (Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Advanced Use of Jaimini Char Dasha by K N Rao

Vedic Astrology Demystified by Chandrasekhar Sharma

Advanced Study of Vimshottari Dasha by K K Pathak

Understanding Vimshottari Dasa by Dinesh S Mathur

Timing Events Through Vimshottari Dasa by K N Rao

Directional Astrology of the Hindus as Propounded in Vimshottari Dasa by V G Rele

Dasha Nirnay – Vimshottari Mystery by Z Ansari

Phalit Jyotish Mein Kal Chakra फलित ज्योतिष मे काल चक्र (Hindi) by Ram Chandra Kapoor

Brihaj Jatakam बृहज्जातकम् of Varāhamihira (Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Brihat Parasara Hora Shastra – Vol I and II (Classic – Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Bhav Manjhari (Classic – Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Ashthakavarga Mahaanibandha – Secrets of Ashtakvarga (Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Vedanga Jyotisham (Sermons of the Sage Lagadha: The most ancient compendium of Vedic astrology) by Suresh Chandra Mishra

Brihat Parasara Hora Shastra – Vol I (Classic – Hindi) by Suresh Chandra Mishra

Brihat Parasara Hora Shastra – Vol II (Classic – Hindi) by Suresh Chandra Mishra